October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

लखीमपुर हिंसा के आरोपी आशीष मिश्रा की पेशी के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने तोड़ा अनशन

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की जांच के सिलसिले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष के उत्तर प्रदेश पुलिस के सामने पेश होने के बाद पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को अपना अनशन ख़त्म कर दिया।

 

Navjot Singh siddhu/Twitter

 

आशीष मिश्रा पर हत्या का आरोप लगाने वाली प्राथमिकी में पिछले सप्ताह आठ लोगों की मौत हो गई थी। सिद्धू ने केंद्रीय मंत्री के बेटे की गिरफ़्तारी की मांग की है। इसके लिए उन्होंने शुक्रवार से भूख हड़ताल शुरू कर दी थी। उन्होंने दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर बैठकर लखीमपुर से विरोध करने का फ़ैसला किया था, जिनकी हिंसा में मौत हो गई थी।

 

 

ग़ौरतलब है कि कांग्रेस ने समग्र रूप से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफ़े की भी मांग की है। इसका ज़िक्र करते हुए सिद्धू ने हाल ही में न्याय व्यवस्था में किसानों का विश्वास बहाल करने के लिए एक मंत्री की “आहुति” (बलिदान) का आह्वान किया था।

 

 

मामले में गुरुवार को दो लोगों को गिरफ़्तार किए जाने के बाद, पुलिस ने आशीष मिश्रा के घर के बाहर एक नोटिस चिपकाया था, जिसमें आठ लोगों की जान लेने वाली हिंसा के सिलसिले में उन्हें पेश होने के लिए कहा गया था।

शुक्रवार को जब वह पेश नहीं हुए तो यूपी पुलिस ने नया नोटिस जारी कर शनिवार को सुबह 11 बजे तक पेश होने को कहा था। मंत्री के बेटे व अन्य के ख़िलाफ़ दर्ज प्राथमिकी की जांच के लिए डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल की अध्यक्षता में नौ सदस्यीय टीम का गठन किया गया है।

 

 

सिद्धू ने कश्यप परिवार से मुलाक़ात के बाद कहा था, “कानून और न्याय से बड़ा कुछ भी नहीं है। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है क्योंकि आरोपी मंत्री का बेटा है। अब सत्ता में बैठे लोगों और ग़रीब लोगों दोनों के लिए कानून अलग-अलग है। पुलिस कुछ भी कर सकती है क्योंकि वो ज़्यादा कुशल है, लेकिन इस मामले में कुछ भी नहीं किया जा रहा है।”

Translate »