September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

जम्मू कश्मीर के 14 जिलों में 45 जगहों पर NIA की छापेमारी, अलगाववादी सदस्यों के घरों की तलाशी

टेरर फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में करीब 45 जगहों पर छापेमारी
कर रही है।

Credit ANI

इन जिलों में श्रीनगर, पुलवामा, कुपवाड़ा, डोडा, किश्तवाड़, रामबन, अनंतनाग, बड़गाम, राजौरी और शोपियां भी शामिल हैं।

साथ ही जम्मू-कश्मीर पुलिस और CRPF के साथ मिलकर NIA के अधिकारी जमात-ए-इस्लामी के सदस्यों के घर की तलाशी ले रहे हैं। बता दें इस संगठन की पाकिस्तान समर्थक और अलगाववादी नीतियों के चलते 2019 में केंद्र सरकार ने इसे बैन कर दिया था। इसके बावजूद यह संगठन जम्मू-कश्मीर में काम कर रहा है।

सरकार के कर्मचारियों का आतंकी कनेक्शन

10 जुलाई NIA ने को टेरर फंडिंग मामले में जम्मू-कश्मीर में 6 लोगों को गिरफ्तार किया था। इस रेड से एक दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर सरकार के 11 कर्मचारियों को आतंकी कनेक्शन होने के चलते नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था। इसमें से दो आरोपी हिज्बुल-मुजाहिदीन के सरगना सयैद सलाहुद्दीन के बेटे थे।

पाकिस्तान से फंड लेने का आरोप

हिज्बुल-मुजाहिदीन के चार कथित आंतकियों के खिलाफ सबूत मिले थे। सबूतों में बताया गया था कि जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान से पैसे लिए थे। दिल्ली की कोर्ट ने इस मामले में उनके खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया था।

UAPA के तहत केस दर्ज करने के आदेश

कोर्ट ने इन चारों कथित आतंकियों पर क्रिमिनल कॉन्स्पिरेसी, देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने और UAPA के तहत कई चार्ज लगाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा था कि हिज्बुल-मुजाहिदीन ने जम्मू-कश्मीर अफेक्टीज रिलीफ ट्रस्ट (JKART) नाम से फर्जी ऑर्गेनाइजेशन बनाया था और इसका असली मकसद आतंकी गतिविधियों को फंडिंग करना था। कोर्ट ने बताया कि इस ट्रस्ट से आतंकियों और उनके परिवारों को पैसे दिए जाते हैं।

Translate »