September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘पीएम मटेरियल’ होने की बात पर नीतीश कुमार ने दी प्रतिक्रिया, कहा पार्टी की बात आधिकारिक बयान नहीं

आखिरकार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीते कई दिनों से तूल पकड़ी बात कि वे पीएम मटेरियल हैं या नहीं पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

 

 

बिहार के मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि’ ऐसी सभी बातों का कोई आधार नहीं है, और ये भी कहा कि हर वो बात जो पार्टी में होती है उसे आधिकारिक बयान नहीं मानना चाहिए।

दरअसल उनकी पार्टी यह दोहराती रही है कि नीतीश कुमार ‘पीएम मटेरियल’ हैं क्योंकि उनमें इस पद के लिए आवश्यक सभी गुण हैं।

 

क्या बोले नितीश?

नीतीश कुमार से जब पीएम की दौड़ में शामिल होने के बारे में पूछा गया, कहा, “मुझे माफ़ करो… मीटिंग के दौरान कई अन्य विषय चर्चा के लिए आते हैं। कोई कुछ कहे तो किसी उस विषय को पार्टी का आधिकारिक बयान नहीं मानना चाहिए।”

सोमवार को, कुमार की पार्टी के सदस्यों ने कहा कि वे बिहार के मुख्यमंत्री के लिए सत्ता की सर्वोच्च सीट का दावा नहीं कर रहे हैं, लेकिन अगर ऐसी स्थिति पैदा होती है तो ‘संख्या’ की कोई समस्या नहीं होगी।

कुमार के पार्टी सहयोगी, महासचिव और प्रवक्ता के सी त्यागी के भी यही विचार थे। त्यागी ने पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, “नीतीश कुमार प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं हैं। जद (यू) राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का सबसे भरोसेमंद सदस्य है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गठबंधन के नेता हैं। लेकिन वह (कुमार) निश्चित रूप से एक पीएम मटेरियल हैं।”

ग़ौरतलब है कि जद (यू) के संसदीय बोर्ड के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कुछ हफ़्ते पहले कुमार के ‘पीएम मटेरियल’ होने की बात को एक बार फिर हवा दी थी जिसके बाद इसपर चर्चा तेज़ हो गई।

इसके अलावा राज्य के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण और नाव से सर्वेक्षण करने के बाद नीतीश कुमार ने कहा, “मैंने दरभंगा ज़िले के बाढ़ प्रभावित कुशेश्वर अस्थान क्षेत्र का सर्वेक्षण किया है। प्रभावित परिवारों को 6 हज़ार रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है। कुछ क्षेत्र बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं।”

Translate »