November 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘चाहे वो कोई भी पार्टी हो, दिल्ली की दादागिरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी’ – ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को कहा कि भाजपा हो, कांग्रेस हो या आम आदमी पार्टी, दिल्ली की दादागिरी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

 

Mamta Banerjee/twitter

बनर्जी ने अपने उन आलोचकों पर निशाना साधा जिन्होंने तृणमूल कांग्रेस पर 2022 के राज्य विधानसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में विपक्षी वोट को विभाजित करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

ममता बनर्जी ने कहा, “दिल्ली की दादागिरी को रोकना होगा। गोवा को अपने पैर पर खड़ा होना चाहिए और हम उसकी लड़ने में मदद करेंगे। हम इसके लिए एक सिस्टम बनाएंगे।”

यह पूछे जाने पर कि कौन सी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस या आम आदमी पार्टी, उनके दादागिरी के निशाने पर है, उन्होंने कहा, “को कोई भी दादागिरी करता है, ये सभी के लिए है।”

बता दें कि ममता बनर्जी शुक्रवार को पंजी में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रही थीं। यहाँ उन्होंने उस संस्कृति पर भी निशाना साधा जहां राज्यों को चलाने के निर्देश दिल्ली से आते हैं।

 

विपक्ष का वोट बांटेगी टीएमसी?

टीएमसी के एक ऐसी पार्टी के रूप में उभरने के आरोपों पर, जो विपक्षी वोटों को बांटेगी और भाजपा को गोआ में चुनाव जीतने पर मजबूर करेगी, बनर्जी ने कहा, “क्या आपको लगता है कि जब टीएमसी आएगी, तो वो वोटों को विभाजित करेगी? जब अन्य दल आएंगे तो आप उनसे यह सवाल मत पूछो? इस बार उनसे सवाल पूछो, तुमने इतनी बार चुनाव लड़ा है, इस बार तृणमूल कांग्रेस को लड़ने दो, हम सबकी मदद करेंगे।”

उन्होंने आगे जोड़ा, “हम वोट को विभाजित नहीं करना चाहते हैं। लेकिन मुझसे यह सवाल न पूछें कि कोई सामंती ज़मींदार-गिरी, दादागिरी होगी कि केवल दिल्ली के लोग ही चुनाव लड़ेंगे, कोई और नहीं। ये नहीं चलेगा।”

उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की राज्य इकाई गोवा मामलों से जुड़े सभी फ़ैसले लेगी। “स्थानीय पार्टी को भी अपनी बात रखने का अधिकार होगा। केवल अंदरूनी सूत्र, जिनपर हम भरोसा करते हैं वे नीति बनाएंगे, वे सब कुछ तय करेंगे। हम चर्चा कर सकते हैं, हम परामर्श कर सकते हैं, हम सलाह दे सकते हैं, हम मदद कर सकते हैं। यह एक साथ तय किया जाना है, मैं इसे अभी नहीं बता सकती।”

 

‘मज़बूत हो राज्यों का संघीय ढांचा’

ममता बनर्जी ने राज्यों के एक मज़बूत संघ और एक उचित संघीय ढांचे का आह्वान किया। “हम राज्यों का एक मज़बूत संघ देखना चाहते हैं, राज्यों को आत्मनिर्भर होना चाहिए, संघीय ढांचा मज़बूत होना चाहिए।”

ममता बनर्जी ने आगामी चुनावों के लिए गठबंधन की तलाश करने और मुख्यमंत्री का चेहरा तय करने से जुड़े सवालों का जवाब देने से इनकार करते हुए कहा, “हमने इस मामले पर इतने सारे चुनावों के लिए कई बार चर्चा की, लेकिन अंत में कोई नतीजा नहीं निकला। आइए हम अपने तरीके से खड़े हों। मैं अब इस बैठक में विस्तार से सब कुछ चर्चा नहीं कर सकती। यह सब कुछ स्थिति पर निर्भर करता है और हमें स्थानीय नेताओं के साथ इस पर चर्चा करनी होगी। यह एक सामूहिक निर्णय है। यह एक व्यक्तिगत निर्णय नहीं है।”

Translate »