जो एक गांव नहीं संवार पाया, वो देश कैसे चलाएगा- राहुल गांधी के गोद लिए गाँव जगदीशपुर की जनता का राहुल गांधी को जवाब

by Sachin Singh Rathore
0 comment

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर सभी राजनीतिक दल धुआंधार प्रचार में लगे हैं। लेकिन कुछ नेता बस प्राचार में ही लगे हैं दरअसल अमेठी जो कभी काँग्रेस का गढ़ और राहुल गांधी का संसदीय क्षेत्र हुआ करती थी। इसी अमेठी से 2014 में राहुल गांधी ने ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ के तहत गोद लिया था। इस गांव के लोगों में कांग्रेस और राहुल गांधी को लेकर काफी रोष है।

जगदीशपुर की जनता की अगर आप सुनें तो वो कहती है कि राहुल गांधी ने जब इस गांव को गोद लिया तो यहां बदलाव की उम्मीद जगी। गाँव वालों ने एक मंच दिखाते हुए कहा कि इसी मंच पर खड़े होकर राहुल गांधी ने हमारे गांव को गोद लेने की बात कही थी। लेकिन उसके बाद से आज 2022 हो गया, राहुल गांधी की सांसदी चली गई लेकिन उन्होंने इस गांव की तरफ पलटकर नहीं देखा। यहां ना स्वास्थ्य की सुविधाएं हैं और ना ही शिक्षा की। सड़कें खस्ताहाल हैं। जो एक गांव नहीं संवार पाया, वो देश कैसे चलाएगा

एक स्थानीय नागरिक ने कहा कि राहुल के गोद लेने के बाद यहां नपाई वगैरह हुई थी, लेकिन फिर पूरा मामला ठप हो गया। उन्होंने कहा कि इस गांव का सचिवालय खंडहर जैसा पड़ा है। गांव वालों के पास कोई ऐसी जगह नहीं है, जहां लोग अपनी शिकायत कर सकें। ना पंचायत सचिव 10 सालों से यहां आए, ना प्रधान। इसकी शिकायत सीडीओ तक से की गई लेकिन हमारी तरफ किसी ने नहीं देखा। उन्होंने कहा कि इस गांव में गड्ढेदार सड़कें हैं, पाइप से पानी की आपूर्ति की भी कोई व्यवस्था नहीं है और स्वास्थ्य सुविधाएं भी न के बराबर हैं।

 

About Post Author