September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

पंचशीर में बगावत से घबराया पाकिस्तान, तजाकिस्तान ने कहा – तालिबान हुकूमत मंजूर नहीं

पंजशीर में तालिबान और नॉर्दन अलायंस के लड़ाकों से तालिबान के साथ पाकिस्तान भी घबरा गया है।

वहीं, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों को साधने की जिम्मेदारी दी है।

तजाकिस्तान नहीं स्वीकार करेगा तालिबान हुकूमत

बुधवार कुरैशी को तालिबानियों के समर्थन में अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों को साधने में जुट गए। इसी क्रम में वे तुर्कमेनिस्तान, उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान पहुंचे लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति इमाम अली रहमान ने कुरैशी से कहा है कि अफगानिस्तान में ताजिक मूल के 46% लोग रहते हैं। ताजिकिस्तान ऐसी सरकार को स्वीकार नहीं करेगा जिसमें सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व ना हो। उन्होंने आरोप लगाया कि अफगानिस्तान में ताजिक मूल के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। पंजशीर घाटी में भी अधिकतर ताजिक लोग ही रहते हैं।

किसी भी परिस्थिति में आत्मसमर्पण नहीं करेंगे

नॉदर्न अलायंस के नेता अहमद मसूद ने कहा है कि पंजशीर किसी भी परिस्थिति में आत्मसमर्पण नहीं करेगा। उन्होंने कहा है कि तालिबान से वार्ता चल रही है। वहीं तालिबान ने दावा किया है कि आज सुबह से बगलान और अंद्राब में लड़ाई रुकी हुई है। उसके लड़ाके पंजशीर घाटी में पहुंच गए हैं। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक, ताजिकिस्तान ने पंजशीर के लड़ाकों को 3 हेलिकॉप्टर हथियार भेजे हैं। पंजशीर घाटी में हेलिकॉप्टर भेजने की ये तस्वीर 23-24 अगस्त को वायरल हुई थी।

पंजशीर और तजाकिस्तान के बीच सीधा सड़क मार्ग नहीं

दअरसल, पंजशीर और तजाकिस्तान के बीच सीधा सड़क मार्ग नहीं हैं। पंजशीर को तजाकिस्तान से सीधा कॉरिडोर बनाने के लिए उत्तरी प्रांतों के जिलों को तालिबान से मुक्त करानाहोगा जो आसान काम नहीं है। हालांकि कई सूत्रों ने पंजशीर में ताजिकिस्तान के हेलिकॉप्टर भेजने की तस्वीर को फेक बताया है। उनका दावा है कि ये दिसंबर 2013 की है, जिसे अब वायरल किया जा रहा है।

Translate »