September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

पवन कुमार बने गाजियाबाद के नए एसएसपी, सपा सरकार ने 8 दिनों के भीतर हुआ था चार बार तबादला, जानिए कौन है आईपीएस पवन कुमार

सुप्रीम कोर्ट के बाहर युवक और युवती द्वारा आत्मदाह करने की घटना की आंच पूरे प्रदेश में दिखाई दे रही है तो वहीं सरकार ने भी ताबड़तोड़ कार्रवाई करने में जुट गई है।

जिस दौरान यह घटना बनारस में हुई थी। उस समय अमित पाठक वहां के पुलिस कप्तान थे। बनारस के कैंट थाना के प्रभारी निरीक्षक सहित कई को सस्पेंड कर दिया गया। वहीं 2009 बैच के आईपीएस पवन कुमार को गाजियाबाद के नए एसएसपी के तौर पर तैनाती दी गई है। घटना के बाद पूरे महकमे में हड़कंप मचा है।

पवन कुमार 2009 बैच के आइपीएस अधिकारी हैं और मूलरूप से राजस्थान के हनुमानगढ़ के रहने वाले हैं। नए कप्तान के आगे जिले में नई पारी चुनौती भरी साबित होगी। प्रदेश के मुरादाबाद में तैनात 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी पवन कुमार की गिनती प्रदेश में तैनात तेज तर्रार एवं सख्त आईपीएस अधिकारियों में होती है। यहीं कारण था कि सपा सरकार में महज 8 दिन में उनका चार बार तबादला हुआ था।

सपा सरकार के दौरान 2016 में पवन कुमार का तबादला उन्नाव से सीतापुर कर दिया गया था। लेकिन चार्ज लेने के 5 दिन बाद ही उनका तबादला रायबरेली कर दिया गया, हालांकि रायबरेली कप्तान का चार्ज संभालने जाते हुए उनके तबादले को संशोधित करते हुए पुलिस मुख्यालय संबद्ध कर दिया गया था। उनकी जगह सीतापुर एसपी बनाए गए एचएन सिंह का भी तबादला संशोधित करते हुए एसपी रायबरेली के रूप में कर दिया गया था।

 

आईपीएस अधिकारी पवन कुमार जहां एक तरफ ट्रेनिंग के दौरान एसपी सिटी आगरा के पद पर तैनात रहे तो वहीं शामली, चित्रकूट, जौनपुर, उन्नाव, सीतापुर, सुल्तानपुर, में कप्तान के पद पर भी तैनात रह चुके है। 2017 में पवन कुमार सेंट्रल डेपुटेशन पर हैदराबाद पुलिस आकदमी चले गए जहां वह करीब 4 साल तक तैनात रहे।

 

केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस आने के बाद इसी साल जून 2021 में एसएसपी मुरादाबाद बनाये गए थे। चुनावी साल होने के कारण राजनैतिक दलों से तालमेल बनाकर शांतिपूर्ण व्यवस्था के बीच चुनाव संपन्न कराना भी बड़ी जिम्मेदारी होगी। इसके साथ ही अगामी त्योहारों के मद्देनजर जिले में अपराधों पर नियंत्रण और यातायात व्यवस्था सुचारू बनाए रखना भी बड़ी जिम्मेदारी रहेगी।

Translate »