September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

एस्ट्राजेनेका की तुलना में तेज़ी से घट रही है फ़ाइज़र की प्रभावशीलता-अध्ययन

गुरुवार को प्रकाशित हुए एक अध्ययन के मुताबिक़ कोरोना की फ़ाइज़र-बायोएनटेक वैक्सीन की प्रभावशीलता एस्ट्राजेनेका जैब की तुलना में तेज़ी से घट रही है।

 

 

इस अध्ययन पर ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा, “नए कोविड​​​​-19 संक्रमण के ख़िलाफ़ फ़ाइज़र-बायोएनटेक की दो ख़ुराक़ की प्रारंभिक प्रभावशीलता ज़्यादा है, लेकिन ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राजेनेका की दो ख़ुराक़ की तुलना में यह तेज़ी से घट रही है।”

यह अध्ययन ब्रिटेन के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के एक सर्वेक्षण के परिणामों पर आधारित है, जिसने बीते साल सितंबर इस महीने तक रैंडम सेलेक्शन के ज़रिए कुछ चुने गए घरों में आरटी-पीसीआर टेस्ट कराए थे।

विश्वविद्यालय के नफ़िल्ड डिपार्टमेंट ऑफ़ मेडिसिन के अनुसार, इसमें  पाया गया है कि फाइजर और एस्ट्राजेनेका के बीच “दूसरी खुराक के बाद प्रतिरक्षा की गतिशीलता काफी भिन्न है।”

शुरुआत में फ़ाइज़र की प्रभावशीलता ज़्यादा थी लेकिन पूर्ण टीकाकरण के बाद कई महीनों की अवधि को देखते हुए, “उच्च वायरल बोझ और सिम्प्टोमेटिक संक्रमण के ख़िलाफ़ सुरक्षा में तेज़ी से गिरावट” देखी गई, हालांकि दोनों ख़ुराक़ लगने के बाद गिरावट की दर कम रही।

अध्ययन के रिपोर्ट के अनुसार 4 से 5 महीनों में इन दोनों टीकों की प्रभावशीलता समान होगी। इसके अलावा वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि वैक्सीन के दीर्घकालिक प्रभावों का अध्ययन करने की ज़रूरत है।

You may have missed

Translate »