September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

बढ़ते कोरोना मामलों पर बोले केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन, आलोचनाओं को बताया ‘अनवांटेड’

ऐसे समय में जब केरल में सबसे अधिक सक्रिय COVID-19 मामले हैं, मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने राज्य में महामारी से कथित रूप से निपटने के लिए आलोचना को खारिज कर दिया है और इसे “अवांछित”(unwanted) कहा है।

 

 

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) की पत्रिका ‘चिंता’ में प्रकाशित एक लेख में उनकी आलोचना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि केरल में “ऑक्सीजन की कमीं के कारण किसी की मौत ” की सूचना नहीं है। इसके अलावा, “किसी को भी चिकित्सा सहायता या बिस्तर से वंचित नहीं किया गया है।”

मुख्यमंत्री ने आगे सवाल किया कि अगर केरल का मॉडल COVID-19 की रोकथाम में “ग़लत” है, तो “हमें कौन सा मॉडल अपनाना चाहिए?” उन्होंने कहा, “इस बात पर चर्चा हो रही है कि राज्य में मौजूदा नियंत्रण रणनीति उचित नहीं है।” विजयन ने आगे आरोप लगाया कि कुछ लोग तथ्यों की उपेक्षा करने की कोशिश कर रहे हैं और “जानबूझकर भ्रम पैदा कर रहे हैं।”

कई विपक्षी नेताओं ने भी महामारी से अनुचित तरीके से निपटने के लिए सरकार की निंदा की है। बता दें कि केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष पीटी थॉमस ने गुरुवार को कहा था कि राज्य सरकार कोविड-19 महामारी से निपटने में विफल रही है।

बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी राज्य पर आरोप लगाया है कि सरकार स्थिति को संभालने में असमर्थ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा, “दूसरी लहर को लेकर कुछ अनावश्यक विवाद हैं। कुछ वर्ग दूसरी लहर के दौरान अधिक संख्या को चिंता का विषय बताकर लोगों में भय पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।”

विजयन के अनुसार, केरल में प्रमुख शहरों के बाद सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व है। “महामारी के खिलाफ सबसे प्रभावी बचाव पूर्ण टीकाकरण है और यह केंद्र की ज़िम्मेदारी है कि वे ख़ुराक की उपलब्धता सुनिश्चित करें।”

उन्होंने आगे कहा कि देश में किए गए सभी 3 सेरोप्रेवलेंस अध्ययनों से पता चला है कि केरल संक्रमित आबादी का सबसे कम प्रतिशत वाला राज्य है। विजयन ने कहा, “हमने टीके की एक बूंद भी बर्बाद नहीं की और सफलतापूर्वक अतिरिक्त ख़ुराक से टीकाकरण किया।”

इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, केरल में 32,801 नए सीओवीआईडी ​​​​-19 मामले दर्ज किए गए हैं।

इसके अलावा 18,573 लोग इस बीमारी से उबर चुके हैं जबकि 24 घंटे में 179 लोगों की मौत हुई है। सक्रिय मामले बढ़कर 1,95,254 हो गए हैं और मरने वालों की संख्या 20,313 हो गई है। राज्य में पॉजिटिविटी रेट 19.22 फ़ीसद है।

You may have missed

Translate »