September 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन करने पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा- बाबू जी ने जन कल्याण ही अपना जीवन मंत्र बनाया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखनऊ पहुंचे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने कल्याण सिंह के निवास पर पहुंचकर उनको श्रद्धांजलि दी है।

इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता मौजूद रहे।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि, कल्याण सिंह का नाम कल्याण सिंह उनके माता पिता ने रखा था। कल्याण सिंह ने अपने नाम को सार्थक किया। जीवन भर जन कल्याण के लिए जिए, उन्होंने जन कल्याण ही अपना जीवन मंत्र बनाया। बीजेपी, जनसंघ और पूरे परिवार को इस विचार के लिए, देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए समर्पित किया। वह कोने कोने में विश्वास का एक नाम बन गए थे। जीवन के अधिकतम समय में वे जनकल्याण के लिए प्रयत्नरत्न रहे।

फिलहाल कल्याण सिंह का शव उनके लखनऊ में स्थित आवास में रखा गया है। जहां पर लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए आ रहे हैं। यहां से उनका पार्थिव शरीर उनके अपने गांव अलीगढ़ के अतरौली में ले जाया जाएगा। जहां पर 23 अगस्त सोमवार को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके अंतिम संस्कार से पहले देश के कई दिग्गज नेता उनके अंतिम दर्शन के लिए आ रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता कल्याण सिंह का बीती देर रात को निधन हो गया। यह सिर्फ उत्तर प्रदेश या भारतीय जनता पार्टी के लिए ही नहीं बल्कि भारत के हर एक नागरिक के लिए दुख की घड़ी है। बाबू कल्याण सिंह काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उनका इलाज लखनऊ के पीजीआई अस्पताल में चल रहा था। जहां पर शनिवार की देर रात को उन्होंने अंतिम सांसे ली थी।

भारतीय राजनीति में हिंदूवादी विचारधारा को प्रबल रूप देने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू कल्याण सिंह (Kalyan Singh) का शनिवार की देर रात निधन हो गया है। कल्याण सिंह से जुड़े तमाम किस्से और घटनाएं उत्तर प्रदेश के लोगों को याद हैं। उनके राजनीतिक जीवन की सबसे बड़ी घटना अयोध्या मन्दिर विवाद में बाबरी मस्जिद विध्वंस है। 6 दिसंबर 1992 को ढांचा गिरते ही कल्याण सिंह ने खुद इस्तीफा लिखकर दे दिया था। उन्हें जिंदगी में कभी ढांचा गिराने का अफसोस नहीं था। ढांचा गिराने के बाद एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने एक किस्सा सुनाया था।

कल्याण सिंह का जन्म 6 जनवरी 1932 को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री तेजपाल लोधी और माता का नाम श्रीमती सीता देवी था! कल्याण सिंह के 2 बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और कई बार अतरौली के विधानसभा सदश्य के रूप में अपनी सेवाएं दे चुके थे, और साथ ही साथ ये उत्तर प्रदेश में लोक सभा सांसद और राजस्थान तथा हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के रूप में भी अपनी सेवाएं दे चुके थे। पहली बार कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री वर्ष 1991 में बने और दूसरी बार यह वर्ष 1997 में मुख्यमंत्री बने थे। ये प्रदेश के प्रमुख राजनैतिक चेहरों में एक इसलिए माने जाते हैं, क्यूंकि इनके पहले मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान ही बाबरी मस्जिद की घटना घटी थी।

Translate »