December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

गौतम बुद्ध नगर के डीएम सुहास एलवाई को राष्ट्रपति ने अर्जुन पुरस्कार से नवाजा, पत्नी ऋतु सुहास ने कहा- पूरे देश के लिए गर्व की बात

 

गौतम बुद्ध नगर के डीएम सुहास एलवाई को भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया है। सुहास एलवाई ने टोक्यो पैराओलंपिक में पूरे विश्व में भारत का परचम लहराया है। इस पर सुहास एलवाई की पत्नी ऋतु सुहास ने खुशी जताई है।

 

सुहास एलवाई की पत्नी और गाजियाबाद की एडीएम ऋतु सुहास ने कहा कि, यह भारत के लिए बहुत ही ज्यादा गौरव की बात है। सुहास एलवाई पिछले 8 साल से तैयारी कर रहे थे। टोक्यो पैरालंपिक में भारत के लिए पदक जीतना उनका सपना था। पूरे देश को आज उन पर गर्व है कि कैसे अपने काम के साथ-साथ बैडमिंटन की भी तैयारी करते रहे थे।

सुहास एलवाई ने बैडमिंटन सिंगल्स में सिल्वर मेडल विजेता भी है

सुहास एलवाई ने बैडमिंटन सिंगल्स में सिल्वर मेडल लाकर नोएडा समेत पूरे देश की शान बढ़ाई थी। वह देश के पहले आईएएस हैं, जिन्हें पैरालंपिक्स में सिल्वर मेडल जीता है। अब उन्हें अर्जुन पुरस्कार मिला है। इसके अलावा योगी आदित्यनाथ ने दो दिनों पहले मेरठ में सुहास एलवाई की 5 वेतन वृद्धि देने का ऐलान दिया है। मुख्यमंत्री योगी नें पैरा ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाले उत्तर प्रदेश के आईएएस सुहास एलवाई को पांच वेतन वृद्धि (इंक्रीमेंट) देने का भी ऐलान किया। उन्होंने कोरोना काल में सुहास एलवाई के किए गए कार्यों की भी सराहना भी की थी। इसके अलावा सुहास एलवाई को 4 करोड़ रुपए की राशि देने हुए रजत पदक से नवाजा गया।

कौन है और कहां के हैं गौतमबुध नगर डीएम सुहास एलवाई

सुहास एलवाई का पूरा नाम सुहास लालिनकेरे यतिराज (Suhas Lalinakere Yathiraj) है। वह मूल रूप से कर्नाटक के शिमोगा के रहने वाले हैं। उनका जन्म 2 जुलाई 1983 को हुआ था। बचपन से ही सुहास एक पैर से विकलांग हैं। उनका दाहिना पैर पूरी तरह फिट नहीं है। उन्होंने सुरतकल से अपनी 12वीं तक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद यहीं स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से कम्प्यूटर साइंस में इंजिनियरिंग की डिग्री हासिल की।

Translate »