December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

अंबानी और आरएसएस के साथ 300 करोड़ रुपए वाले बयान पर मेघालय राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मांगी माफी

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक एक बार फिर से सुर्खियों में है। आपको बता दूँ कि सत्यपाल मलिक इससे पहले जम्मू कश्मीर के भी राज्यपाल रह चुके हैं। जिस वक्त सत्यपाल मलिक जम्मू कश्मीर के राज्यपाल थे,उस वक्त उन्होंने दावा किया था कि अंबानी और आरएसएस से जुड़े एक शख्स कि 2 फाइलों को मंजूरी देने के बदले उन्हें 300 करोड़ रुपए ऑफर किए गए थे। लेकिन अब सत्यपाल मलिक अपने इस दावे से यू टर्न लेते नजर आ रहे हैं।

 

Satyapal Malik/twitter

 

बयान पर काफी विवाद और हंगामा होने के बाद सत्यपाल मलिक ने अपने दावे को बेबुनियाद ठहराते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल रहते 300 करोड़ रुपए की रिश्वत ऑफर किए जाने के मामले का आरएसएस से कोई मतलब नहीं। उन्होंने इसके लिए माफी भी मांग ली है। सत्यपाल मलिक इसी तरह पहले भी धारा के विपरीत चलते हुए कई बार सुर्खियां बटोरी है।

अखबार को दिए एक इंटरव्यू में जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल और मेघालय के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आरएसएस से माफी मांग ली और उन्होंने कहा कि उनके इस दावे को लेकर आरएसएस से कोई भी जुड़ाव नहीं था और वह इसके लिए माफी मांगते हैं। आगे उन्होंने कहा कि जिस शख्स ने उन्हें फाइल दिया वह खुद को आरएसएस का बता रहा था। इस वजह से मैंने आरएसएस का नाम लिया। मुझे आरएसएस का नाम नहीं लेना चाहिए था। हालांकि मैंने दोनों फाइलों को रोक दिया था और मामला खत्म हो चुका है।

 

सत्यपाल मलिक ने प्रधानमंत्री के बारे में कहीं ये बात

आगे सत्यपाल मलिक ने कहा कि इसकी जानकारी मैंने प्रधानमंत्री को दे दी है। प्रधानमंत्री ने मेरे इस फैसले का समर्थन किया और कहा कि भ्रष्टाचार से समझौता करने की कोई जरूरत नहीं है। दरअसल यह दावा सत्यपाल मलिक ने तब किया था जब मैं राजस्थान के झुंझुनू में एक कार्यक्रम में शामिल हुए। जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई थी। इस कार्यक्रम में उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि मेरे कार्यकाल के दौरान मुझसे कहा गया था कि यदि मैं अंबानी और आरएसएस से जुड़े एक व्यक्ति की दो फाइलों को मंजूरी दे दूं तो मुझे रिश्वत के तौर पर 300 करोड़ रुपये मिलेंगे लेकिन मैंने सौदों को रद्द कर दिया।

 

क्या सत्यपाल मलिक देंगे इस्तीफा

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने यह भी कहा है कि अगर किसान आंदोलन यूं ही चलता रहा और किसान का प्रदर्शन जारी रहा तो फिर बहुत जल्द किसानों के समर्थन में अपने इस राज्यपाल पद से इस्तीफा दे देंगे।

 

कौन हैं सत्यपाल मलिक

आइए आपको सत्यपाल मलिक के निजी जिंदगी की एक छोटी सी झलक दिखाते हैं। दरअसल सत्यपाल मलिक का जन्म 24 जुलाई 1946 को उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के हिसावदा गांव में हुआ था। जब सत्यपाल मलिक की उम्र 2 वर्ष की थी तभी उनके पिता बुध सिंह स्वर्ग सिधार गए थे। बुध सिंह पेशे से एक किसान थे।गांव के ही एक प्राथमिक विद्यालय से उनकी पढ़ाई शुरू हुई। जिसके बाद पास के गांव ढिकौली से इंटर की पढ़ाई पूरी की और स्नातक की पढ़ाई के लिए वह मेरठ कॉलेज पहुंच गए। सत्यपाल मलिक छात्र नेता भी रह चुके हैं और अपने तेजतर्रार और सीधा सपाट व्यवहार के कारण ही राजनीति की मुख्यधारा में भारतीय क्रांति दल के नेता चौधरी चरण सिंह के द्वारा जोड़े गए और इसके बाद सत्यपाल मलिक का राजनीतिक सफर रुका नहीं। कई राज्यों के राज्यपाल रहने के बाद आज उनका कार्यकाल मेघालय के राज्यपाल के रूप में चल रहा है।

Translate »