Thursday, August 4, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

‘कहो कि लोग मायने रोखते हैं, आज़ादी मायने रखती है, यूक्रेन मायने रखता है’ युद्ध के एक महीने पूरे होने पर राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की का दुनिया को सन्देश

by Disha
0 comment

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने गुरुवार को दुनिया भर के नागरिकों से यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के विरोध में सड़कों पर उतरने का आग्रह किया।

 

Volodymyir Zelenskyi/Reuters

 

ज़ेलेंस्की द्वारा एक वीडियो संदेश साझा करते हुए यूक्रेन के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया, “रूस का युद्ध केवल यूक्रेन के ख़िलाफ़ युद्ध नहीं है, स्वतंत्रता के ख़िलाफ़ युद्ध है। इसलिए मैं आपसे युद्ध के ख़िलाफ़ खड़े होने के लिए कहता हूं! 24 मार्च से यानी रूसी आक्रमण के ठीक एक महीने बाद, वे सभी एक साथ युद्ध आएं जो युद्ध को रोकना चाहते हैं!”

यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के एक महीने बाद गुरुवार से शुरू होने वाले वैश्विक विरोध का आह्वान करते हुए, ज़ेलेंस्की ने अंग्रेज़ी में बोलते हुए कहा, “इस दिन से और उसके बाद भी, इसपर अपनी स्थिति स्पष्ट करो। अपने कार्यालयों, अपने घरों, अपने स्कूलों और विश्वविद्यालयों से आओ। शांति के नाम पर आओ। यूक्रेन का समर्थन करने के लिए, स्वतंत्रता का समर्थन करने के लिए, जीवन का समर्थन करने के लिए यूक्रेनी प्रतीकों के साथ आओ।”

उन्होंने आगे जोड़ा “अपने स्कूल के मैदानों में आओ, सड़कों पर आओ। कहो कि लोग मायने रोखते हैं, आज़ादी मायने रखती है, शांति मायने रखती है, यूक्रेन मायने रखता है।”

उन्होंने कहा, “आपके शहरों के डाउनटाउन में एक साथ आएं, जो युद्ध को रोकना चाहते हैं।”

डोनेट्स्क और लुहान्स्क पीपुल्स रिपब्लिक (डीपीआर और एलपीआर) द्वारा कीव बलों के ख़िलाफ़ खुद का बचाव करने में मदद के लिए अपील करने के बाद 24 फरवरी के शुरुआती घंटों में, रूस ने यूक्रेन में एक विशेष सैन्य अभियान शुरू किया।

रूस ने कहा कि उसके विशेष अभियान का उद्देश्य यूक्रेन का विसैन्यीकरण करना है और इसमें केवल सैन्य बुनियादी ढांचे को निशाना बनाया जा रहा है, नागरिक आबादी खतरे में नहीं है। ग़ौरतलब है कि मास्को ने बार-बार ज़ोर देकर कहा है कि यूक्रेन पर कब्ज़ा करने की उसकी कोई योजना नहीं है।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के अनुसार, लक्ष्य डोनबास के लोगों की रक्षा करना है, “जो आठ वर्षों से कीव शासन द्वारा दुर्व्यवहार, नरसंहार के अधीन हैं।” हालाँकि, पश्चिमी देशों ने यूक्रेन पर रूस के आक्रमण की कड़ी निंदा की है और मास्को पर भारी प्रतिबंध लगाए हैं।

 

About Post Author