October 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

दादरी मिहिर भोज प्रकरण में श्याम सिंह भाटी फरार, पत्नी सीमा भाटी ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप, सोशल मीडिया पर मांगी मदद

दादरी सम्राट मिहिर भोज प्रकरण में समाजवादी पाटी के जिला उपाध्यक्ष श्याम सिंह भाटी फरार है। बताया जा रहा है कि श्याम सिंह भाटी गुरूवार की शाम को लखनऊ गए थे। उसके बाद से ही उनका मोबाइल स्विच ऑफ जा रहा है। इस मामले में श्याम सिंह भाटी की पत्नी सीमा भाटी ने सोशल मीडिया पर पुलिस पर आरोप लगाए है।

 

 

सीमा भाटी का कहना है कि, मेरे पति श्यामसिंह भाटी का कल से कोई अता पता नहीं है। दादरी पुलिस मेरे परिवार और उनको परेशान कर रही है। सभी लोगों से मेरी अपील है कि मेरे पति (श्याम सिंह भाटी)  का पता लगाने पर मदद करे। कभी पुलिस उनके साथ कोई बड़ी वारदात को अंजाम ना दे। उनका मोबाइल भी स्विच ऑफ जा रहा है।

ग्रेटर नोएडा के एडिशनल डीसीपी विशाल पांडेय ने बयान जारी करते हुए कहा, “थाना दादरी पर आरोपी श्याम सिंह भाटी के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत है। जिसकी सूचना कमिश्नरेट लखनऊ पुलिस को दी गई थी। आरोपी श्याम सिंह भाटी मौके से फरार हो गया। पुलिस द्वारा 02 अन्य अभियुक्तों को हिरासत में लिया गया है। अन्य आवश्यक कार्रवाई की जा रही हैं।”

श्याम सिंह भाटी अपने साथियों के साथ गुरुवार की शाम को उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात करने लखनऊ पहुंचे थे लेकिन गुरुवार की शाम से ही श्याम सिंह भाटी फरार है। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। पुलिस ने श्याम सिंह भाटी के दो साथियों को हिरासत में ले लिया है।

आपको बता दें कि दो दिनों पहले समाजवादी पार्टी के जिला उपाध्यक्ष श्याम सिंह भाटी अपने साथियों के साथ दादरी में स्थित मिहिर भोज डिग्री कॉलेज पहुंचे थे। वहां पर श्यामसिंह ने पहले सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा पर गंगाजल चढ़ाया। इसके बाद इन लोगों ने भी फूल चढ़ाए। फिर श्याम सिंह भाटी और उनके साथियों ने प्रतिमा के शिलापट्ट पर कालिख पोत दी। इन लोगों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यसभा सांसद सुरेंद्र सिंह नागर, स्थानीय विधायक तेजपाल सिंह नागर और भाजपा के दूसरे नेताओं के नाम पर कालिख पोती थी। इस पूरे घटनाक्रम का श्याम सिंह भाटी ने एक फेसबुक पेज से लाइव किया था। हालांकि मामला गर्म होने के बाद हटा दी थी।

सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा पर शिलापट से सीएम योगी आदित्यनाथ, दादरी के विधायक तेजपाल नागर और राज्यसभा सांसद सुरेंद्र सिंह नागर समेत सभी भाजपा नेताओं के नाम पर कालिख पोतने वाले मामले में 150 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसमें श्याम सिंह भाटी मुख्य आरोपी है।

बीते 22 सितंबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दादरी में आए थे। जहां पर उन्होंने सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण किया था। इस प्रतिमा को लेकर पहले ही ठाकुर और गुर्जर समाज के लोग आमने-सामने है। 3 दिन पहले मंगलवार को समाजवादी पार्टी के जिला उपाध्यक्ष और गुर्जर वीर महासभा के जिला अध्यक्ष श्याम सिंह भाटी ने अपने साथियों के साथ मिलकर प्रतिमा पर शिलापट से योगी आदित्यनाथ और भाजपा नेताओं के नाम पर कालिख पोत दी थी। उसके बाद यह मामला और भी ज्यादा गर्म हो गया।

 

 

योगी आदित्यनाथ के नाम पर काली पुतली के बाद गौतम बुद्ध नगर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष इंद्र प्रधान ने श्याम सिंह भाटी से पल्ला झाड़ लिया। इंद्र प्रधान ने इस मामले के बाद बयान जारी करते हुए कहा था कि, इस मामले में समाजवादी पार्टी का कोई भी रोल नहीं है। जिला उपाध्यक्ष श्याम सिंह भाटी ने योगी आदित्यनाथ और भाजपा नेताओं के नाम पर जो कालिख पोतने का काम किया है। इस मामले में समाजवादी पार्टी श्याम सिंह भाटी को नोटिस जारी करेगी।

Translate »