September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

पंजाब कांग्रेस के कैप्टन बने सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह और हरीश रावत को किया नज़रअंदाज़, सिद्धू ने कहा मुझे फर्क नहीं पड़ता

पंजाब कांग्रेस में अंदरूनी कलह के बाद आखिरकार कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह एक मंच पर दिखे।

पंजाब कांग्रेस भवन में कांग्रेस ने पंजाब कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर अपने तेवर दिखाते हुए भाषण देने के लिए खड़े हुए तो भगवान को याद किया और क्रिकेट शॉट मारने का एक्शन किया।

कैप्टन और हरीश रावत को किया नज़रअंदाज़

सिद्धू ने अपने भाषण में कहा कि मेरा दिल चिड़े के दिल जैसा नहीं है। मेरा जो भी विरोध करेगा, उससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ेगा बल्कि वो मुझे और मजबूत बनाएंगे क्योंकि मेरी चमड़ी मोटी है। मुझे किसी के कहने-सुनने से कोई फर्क नहीं पड़ता। बता दें सिद्धू जब भाषण देने के लिए खड़े हुए तो अपने दाईं ओर बैठे कैप्टन और हरीश रावत को नज़रअंदाज़ करते पूर्व मुख्यमंत्री रजिंदर कौर भट्ठल और लाल सिंह के पैर छूकर आशीर्वाद लिया।

अगल बगल बैठे पर नहीं मिली नज़रें

पंजाब भवन से कांग्रेस भवन पहुंचे कैप्टन मंच पर नवजोत
सिद्धू के बगल वाली सीट पर बैठे लेकिन बातचीत नहीं की। सिद्धू और कैप्टन के अलावा मंच पर पूर्व प्रदेश प्रधान सुनील जाखड़, पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत, पूर्व मुख्यमंत्री रजिंदर कौर भट्ठल, कैप्टन की पत्नी परनीत कौर भी थीं। इससे पहले पंजाब भवन में कांग्रेस के नए प्रधान सिद्धू ने कैप्टन को देखकर पहले तो नजरें फेर लीं थीं और आगे बढ़ गए लेकिन पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने सिद्धू को आवाज देकर वापस बुलाया और अमरिंदर सिंह से मुलाकात कराई। इससे पहले सिद्धू 18 मार्च को कैप्टन के सिसवां फार्म हाउस पर उनसे मिले थे।

कैप्टन ने किया सिद्धू के पिता का ज़िक्र

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सुनील जाखड़ की तारीफ की उन्होंने कहा कि जाखड़ ने पंजाब कांग्रेस के बहुत कुछ किया है इसलिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। कैप्टन ने कहा कि सिद्धू के पिता पटियाला कांग्रेस के प्रधान रहे और वही मुझे राजनीति में लेकर आए थे। सोनिया जी ने मुझसे कहा कि अब नवजोत पंजाब के अध्यक्ष होंगे और आप दोनों को मिलकर काम करना होगा तो मैंने कह दिया था कि आपका जो भी फैसला होगा वो हमें मंजूर होगा।

Translate »