September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

स्पुतनिक की सिंगल डोज़ वाली वैक्सीन को भारत में तीसरे चरण के परीक्षणों के लिए मिली DCGI की मंज़ूरी

स्पुतनिक की सिंगल-डोज़ वैक्सीन को भारत में तीसरे चरण के परीक्षणों के लिए DCGI की मंज़ूरी मिल गई है। भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने भारत में स्पुतनिक लाइट के तीसरे चरण के ब्रिजिंग परीक्षणों के संचालन की अनुमति दे दी है।

 

Credit- REUTERS

 

स्पुतनिक लाइट रूसी वैक्सीन स्पुतनिक की एक-ख़ुराक़ वाली COVID-19 वैक्सीन है। मेडिकल जर्नल द लैंसेट में हाल ही में प्रकाशित एक अध्ययन के बाद यह मंज़ूरी आई है, जिसमें कहा गया है कि स्पुतनिक लाइट ने COVID-19 के ख़िलाफ़ 78.6 से 83.7 प्रतिशत प्रभावकारिता दिखाई, जो कि ज़्यादातर दो ख़ुराक़ वाले टीकों की तुलना में काफ़ी अधिक है।

बता दें कि, जुलाई में केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की विषय विशेषज्ञ समिति ने देश में रूसी टीके के तीसरे चरण के परीक्षण की आवश्यकता को खारिज करते हुए, स्पुतनिक-लाइट को आपातकालीन-उपयोग प्राधिकरण देने से इनकार कर दिया था।

समिति ने नोट किया था कि स्पुतनिक लाइट स्पुतनिक वी के घटक-1 के समान है और भारतीय आबादी में इसकी सुरक्षा और इम्यूनोजेनेसिटी डेटा पहले से ही एक परीक्षण में तैयार किया जा चुका है। यह अध्ययन अर्जेंटीना में कम से कम 40 हज़ार बुज़ुर्गों पर किया गया था।

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (RDIF) के पिछले साल के अध्ययन में कहा गया है कि स्पुतनिक लाइट ने लक्षित आबादी के बीच अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या को घटाकर 82.1 से 87.6 प्रतिशत कर दिया है।

Translate »