September 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक को दिया बड़ा झटका, 90 दिनों के भीतर सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट के ट्विन टावरों को तोड़ने का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक को बड़ा झटका दिया है। नोएडा में स्थित सुपरटेक प्रोजेक्ट के एमराल्ड कोर्ट में एपेक्स और सियान टावर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई है।

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए दोनों टावर (एपेक्स और सियान टावर) को तोड़ने का आदेश जारी किया है। यह आदेश मंगलवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया है।

सुप्रीम कोर्ट में नोएडा में स्थित सुपरटेक प्रोजेक्ट के एमराल्ड कोर्ट को लेकर काफी समय से सुनवाई चल रही थी। जिसपर मंगलवार को जज डीवाई चंद्रचूड़ और अहमद शाह ने फैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने एमराल्ड कोर्ट में एपेक्स और सियान टावर को अवैध बताते हुए दोनों 40 मंजिला टावरों को तोड़ने का आदेश जारी किया है। यह सुपरटेक को सबसे बड़ा झटका है।

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए यह भी आदेश दिया है कि दोनों टावरों को 90 दिनों के भीतर तोड़ा जाना चाहिए। इसके अलावा यह भी आदेश दिया गया है कि, एपेक्स और सियान टावर जिन भी लोगों ने बुकिंग की है। उनको उनका पैसा 12 फीसदी ब्याज के साथ वापस दिया जाएं।

बता दें कि सुपरटेक के एपेक्स और सियान टावर में कुल 915 फ्लैट और 21 दुकानें हैं। इसमें शुरू में 633 लोगों ने बुकिंग कराई थी। जिसमें से 248 लोगों ने पैसा वापस ले लिया है। 133 लोगों ने सुपरटेक के दूसरे प्रोजेक्ट में निवेश कर दिया है और 252 लोग अभी बचे हैं, जिन्होंने पैसा वापस नहीं लिया है। सुपरटेक को दोनों टावरों से करीब 188 करोड़ रुपये मिले थे। जिसमें से उसने 148 करोड़ रुपये वापस कर दिए हैं।

नोएडा के सेक्टर 93 में स्थित सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट में एपेक्स और सियान टावर को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2014 में गलत ठहराया था। जिसके बाद इन दोनों टावर को ध्वस्त करने का आदेश दिया गया था। साथ ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण के जिम्मेदार अफसरों पर भी मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था। लेकिन सुपरटेक बिल्डर इलाहाबाद हाईकोर्ट की सुनवाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट चला गया। जहां पर सुप्रीम कोर्ट ने भी इलाहाबाद हाईकोर्ट का ही फैसला सुनवाया है।

Translate »