October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी ज़िले में हुई हिंसा में 4 किसानों, एक पत्रकार और 3 भाजपा कार्यकर्ताओं सहित 8 लोगों की मौत के बाद राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का खेल जारी है और इसी बाबत सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को इस घटना का संज्ञान लिया और आज मामले की सुनवाई करेगा।

 

Livelaw

 

मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली, जस्टिस सूर्यकांत और हेमा कोहली के साथ की एक एससी बेंच आज इस मामले की सुनवाई करेगी। इस मामले को ‘लखीमपुर खीरी (यूपी) में हिंसा की वजह से जानमाल की हानि’ के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

इससे पहले, शीर्ष अदालत के दो वकीलों ने मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर मामले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच की मांग की थी। अधिवक्ता शिव कुमार त्रिपाठी और सीएस पांडा द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया है, “उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या की गंभीरता के संबंध में, इस मामले में हस्तक्षेप करना माननीय न्यायालय का दायित्व है।” वकीलों ने दावा किया था कि इन दिनों हिंसा देश की राजनीतिक संस्कृति बन गई है।

इस बीच, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, जो मंगलवार को गिरफ़्तारी के बाद सीतापुर में पीएसी गेस्ट हाउस में कैद थीं, ने अपने भाई राहुल गांधी के साथ उन किसानों के शोक संतप्त परिवारों से मुलाक़ात की, जो 3 अक्टूबर को एक कार द्वारा कथित रूप से कुचले जाने के बाद मारे गए थे।

ये कार गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की थी। राहुल और प्रियंका के अलावा, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, उनका पंजाब समकक्ष चरणजीत सिंह चन्नी और दीपेंद्र सिंह हुड्डा शोक संतप्त परिवार से मिले कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे।

Translate »