April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

तबाही के 10 साल

एक खूबसूरत मुल्क जहां दुनिया कभी घूमने जाया करती थी, जहां की तस्वीरें लोग अपने फोटो एल्बम में सम्भाल कर रखते थे वो मुल्क बर्बाद हो गया । 10 साल ने उस मुल्क को जो घाव दिए हैं वो शायद ही कभी भर पाए। जहां ऊंची इमारतें, शानदार होटल होते थे अब वहां सिर्फ खण्डहर है। वहां लोग जी नहीं रहे ब्लकि मौत से खुद को किसी तरह बचा रहे हैं ।

कभी ऐसे था सीरिया
Photo Credit- wikipedia

बात 2011 की है, सीरिया में सबकुछ सही नहीं चल रहा था । मार्च 2011 में बसर अल असद  की सत्ता को चुनौती मिलनी शुरू हो गई थी। जगह जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे थे । एक जनरल सीरिया से भागा और तुर्की पहुंचा । उसने फ्री सीरीयन आर्मी बनाई। इसके बाद प्रदर्शन खत्म हो गया और देश पर कब्ज़े की लड़ाई शुरू हो गई। पश्चिम और अरब देशों की मदद से देश के एक बड़े हिस्से पर विद्रोहियों ने कब्ज़ा कर लिया। जगह जगह बड़ी संख्या में लोग मारे गए । इस लड़ाई में आतंकी संगठन IS भी उतर आया। उसने भी देश के एक हिस्से पर कब्ज़ा कर खलीफा शासन की नींव रखी।

इस लड़ाई में कई किरदार आते और जाते रहे । अमेरिका , रूस, तुर्की, ईरान सहित कई देश अपने फ़ायदे और नुकसान के हिसाब से भूमिका निभा रहे थे। शहर-शहर में हवाई हमले होने लगे ।असद  की सरकार पर केमिकल हमले के भी आरोप लगें। विद्रोहियों पर हुए इस हमले में 1400 से ज़्यादा लोग मारे गए। सब जीत की होड़ में जुटे थे लेकिन सीरिया की जनता हार रही थी, बुरी तरह बर्बाद हो रही थी। पिछले 10 साल में 3,80,000 से ज़्यादा लोग मारे गए। हालाकि ये सरकारी आंकड़ा है, गैर सरकारी सूत्र कहते हैं मरने वालों की संख्या इससे बहुत ज़्यादा है।

असद

बड़ी संख्या में लोगों ने पलायन करने की कोशिश की। इस कोशिश में लोग समंदर में डूबकर मारे भी गये। एलन कुर्दी के समंदर किनारे लाश ने पूरी दुनिया को झकझोर दिया। कुर्दी का परिवार सीरियाई गृहयुद्ध से बचने के लिए 2 सितंबर 2015 को एक नौका में तुर्की से ग्रीस जाने की कोशिश कर रहा था, पर नाव के डूबने से मासूम कुर्दी की मौत हो गई।

पूरी दुनिया के लिए उस तस्वीर से शर्मनाक कोई और तस्वीर नहीं हो सकती थी। हर रोज़ ऐसी खबरें आने लगी। वहीं जो तस्वीरें सीरिया से आती रहीं उसे देखकर किसी की भी रूह कांप जाये। मार्च 2020 से सीज़ फायर समझौता है। लेकिन सीरिया तब तक पूरी तरह बदल गया। 9 साल की लड़ाई से बर्बाद सीरिया कब आबाद होगा ये शायद ही कोई बता सकता है। लेकिन बड़ा सवाल है कि क्या सीरिया की बर्बादी रोकी जा सकती थी? क्या बड़े देशों ने सीरिया को अपने प्रयोग का केंद्र नहीं बना दिया और सबसे बड़ा सवाल है कि क्या एक देश अपनी समस्याओं का खुद सबसे बेहतर समाधान नहीं निकाल सकता था ?

Translate »