Wednesday, August 3, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

देश-विदेश: यूक्रेन की मदद के लिए एक महीने की तनख़्वाह दान करेंगी त्साई इंग-वेन, अंतराष्ट्रीय समुदाय के बीच ज़िम्मेदार सदस्य के रूप में उभरता ताइवान

by Disha
0 comment

ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने बुधवार को कहा कि वे, उप राष्ट्रपति विलियम लाई और प्रीमियर सु त्सेंग-चांग सभी यूक्रेन के लिए मानवीय राहत से जुड़े प्रयासों में सहायता के लिए एक महीने का वेतन(सैलरी) दान करेंगे।

 

Tsai ing-wen/Reuters

 

बता दें कि ताइवान यूक्रेन में जारी रूस की बर्बरता को ख़त्म रने और आक्रमण से पीछे हटने की हिमायत करता है।

इस युद्ध ने यूक्रेन के लोगों के प्रति ताइवान में बेहद सहानुभूति पैदा की है क्योंकि इसका कहना है चीन से ताइवान भी रोज़ इसी ख़तरे का सामना करता है।
दरअसल बीजिंग ताइवान को अपना हिस्सा समझता है और इस दावों पर ज़ोर देने के लिए वह आए दिन द्वीप पर अपना सैन्य दबाव बढ़ा रहा है।

 

कितना है त्साई इंग-वेन का वेतन?

त्साई, जिनकी सरकार ने इस हफ़्ते 27 टन चिकित्सा आपूर्ति के रूप में मदद का पहला जत्था भेजा है, ने सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की एक बैठक में कहा कि यूक्रेन के लोगों के दृढ़ संकल्प ने दुनिया और ताइवान के लोगों को भी हिला दिया है।

साई ने कहा कि यूक्रेन का समर्थन करने वाले वैश्विक लोकतंत्र की ताकतें मज़बूत हो रही हैं। “लोकतंत्र के वैश्विक भागीदारों के सदस्य के रूप में, ताइवान अनुपस्थित नहीं है, और हम यूक्रेन का पूरा समर्थन करते हैं।”

विदेश मंत्रालय ताइवान के राहत आपदा संघ द्वारा यूक्रेन को राहत दान के लिए स्थापित एक बैंक खाते का विवरण देगा जिसमें त्साई ने कहा कि वह, लाई और सु एक महीने का वेतन दान करेंगे।

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ राष्ट्रपति के रूप में त्साई को लगभग $400,000 (1,080,541.45 रुपये) प्रति माह वेतन मिलता है।

 

अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ज़िम्मेदार सदस्य ताइवान

ग़ौरतलब है कि ताइवान ने पिछले हफ़्ते यह भी घोषणा की थी कि वह रूस पर पश्चिमी के प्रतिबंधों में शामिल हो गया है, हालांकि रूस के साथ उसका अपना व्यापार लगभग न के बराबर है।

त्साई ने कहा, “मुझे उम्मीद है कि हमारे हमवतन, साथ ही सार्वजनिक कार्यालय में हमारे सभी पार्टी सहयोगी, इस कार्रवाई का पूरी तरह से जवाब दे सकते हैं और दुनिया को दृढ़ता से व्यक्त कर सकते हैं कि ताइवान यूक्रेन के साथ खड़ा है, और ताइवान लोकतंत्र और स्वतंत्रता के साथ खड़ा है।”

ताइवान को चीनी दबाव के कारण संयुक्त राष्ट्र जैसे वैश्विक संगठनों से बड़े पैमाने पर बाहर रखा गया है, लेकिन उसका ऐसा क़दम यह दिखाता है कि वह इस राजनयिक अलगाव के बावजूद अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का एक ज़िम्मेदार सदस्य है।

About Post Author