September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

तालिबान को-फाउंडर मुल्ला अब्दुल गनी बरादर पहुंचा काबुल, जिहादी नेताओं से करेगा मुलाकात

तालिबान का को-फाउंडर मुल्ला अब्दुल गनी बरादर काबुल पहुंच गया है। यहां वह अफगानिस्तान में नई सरकार बनाने के बारे में तालिबान के अपने साथियों और जिहादी नेताओं से बात करेगा।

सूत्रों के मुताबिक, समावेशी सरकार बनाने को लेकर चर्चा की जाएगी। बरादर कतर से मंगलवार को अफगानिस्तान के कंधार पहुंचा था। जहां से तालिबान की रूहानी शुरुआत मानी जाती है। उसके लौटने के चंद घंटों बाद ही तालिबान ने ऐलान किया कि उसकी हुकूमत इस बार अलग होगी।

पाकिस्तान ने 2010 में किया था गिरफ्तार

बता दें मुल्ला बरादर को 2010 में पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था लेकिन अमेरिका के दबाव के बाद उसे 2018 में रिहा करके कतर भेज दिया गया। वहां उसे दोहा स्थित तालिबान के पॉलिटिकल ऑफिस का प्रमुख नियुक्त किया गया। यहीं पर उसने अमेरिका के साथ एग्रीमेंट हुआ जिसमें यह तय हुआ कि विदेशी सेनाएं अफगानिस्तान छोड़कर जाएंगी।

रह चुका है अफगानिस्तान का रक्षा मंत्री

इंटरपोल के मुताबिक मुल्ला बरादर का जन्म उरूज्गान प्रांत के देहरावुड जिले के वीटमाक गांव में 1968 में हुआ था। मुल्ला अब्दुल गनी बरादर उन चार लोगों में से एक है जिन्होंने तालिबान का गठन किया था। वो तालिबान के फाउंडर मुल्ला उमर का डिप्टी था। 2001 में अमेरिकी हमले के वक्त वो देश का रक्षामंत्री था।
अमेरिका से शांति वार्ता के लिए जाने वाले लोगों में मुल्ला अब्दुल गनी बरादर प्रमुख था। उसने हमेशा अमेरिका के साथ बातचीत का समर्थन किया है।

You may have missed

Translate »