September 28, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘तालिबान महिलाओं के संबंध में किए अपने वादे को तोड़ रहा है’: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार प्रमुख ने सोमवार को अफ़ग़ानिस्तान में सत्ता पर क़ब्ज़ा करने के बाद से तालिबान के रिकॉर्ड की आलोचना करते हुए कहा कि उनके वादे और महिलाओं की स्थिति ज़मीनी स्तर पर मेल नहीं खातीं।

 

Reuters

 

मिशेल बाचेलेट ने जिनेवा में मानवाधिकार परिषद को बताया कि अफ़ग़ानिस्तान एक “नए और ख़तरनाक चरण” में है, जिसमें कई महिलाएं, जातीय समूहों और धार्मिक समुदायों के सदस्य अपने अधिकारों के लिए बेहद चिंतित हैं।

उन्होंने अपने भाषण में कहा, “महत्वपूर्ण रूप से, और तालिबान द्वारा महिलाओं के अधिकारों को बनाए रखने के आश्वासन के उलट, पिछले तीन हफ़्तों में, महिलाओं को उत्तरोत्तर सार्वजनिक क्षेत्र से बाहर रखा गया है।”

बाचेलेट ने तालिबान की नई सरकार की संरचना पर निराशा व्यक्त की और पश्तून में महिलाओं की अनुपस्थिति पर भी लोगों का ध्यान खींचा और चर्चा की।

उन्होंने पूर्व सरकार से जुड़े पूर्व सिविल सेवकों और सुरक्षा अधिकारियों को माफ़ी देने और घर-घर की तलाशी पर रोक लगाने के अन्य वादों की ओर भी इशारा किया जिससे तालिबान मुकर गया है।

Translate »