September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

तालिबान ने जारी किया नई सरकार का मेनिस्फेस्टो, जानें कार्यकारी में क्या-क्या है

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान के क़ब्ज़े के बाद उसकी सरकार की गठन से जुड़े सवाल लगातार चर्चा में रहे। इस बीच अब अंततः तालिबान ने अपनी कार्यकारी सरकार के गठन के ऐलान के साथ ही चार पन्नों का एक घोषणा पत्र जारी किया है।

 

 

यह मेनिस्फेस्टो ‘लीडर ऑफ़ इस्लामिक अमीरात ऑफ़ अफगानिस्तान’ अमीर उल मुमीनिन शेख उल हदीथ हिब्तुल्लाह अखुंदज़ादा के हस्ताक्षर के साथ जारी किया गया है।

मेनिस्फेस्टो में इस बात पर ज़ोर दिया गया है कि सरकार में शामिल सभी लोग इस्लामिक नियम और शरिया क़ानून के तहत काम करेंगे और उसी से देश का विकास करेंगे। शामिल ये भी है कि कार्यकारी सरकार बहुत जल्द काम करना शुरू कर देगी।

समाचार एजेंसी एनडीटीवी के मुताबिक़ मेनिस्फेस्टो में लिखा गया है कि पिछले 20 साल के संघर्ष के दो लक्ष्य थे-

1. विदेशी सेना से देश को आज़ाद कराना

2.देश में पूर्ण, आज़ाद, स्थिर और इस्लामिक प्रणाली वाली सरकार स्थापित करना

हम एक आत्मनिर्भर अफग़ानिस्तान बनाएंगे।

-पड़ोसी और बाकी सभी देशों के साथ दोतरफ़ा और सम्मानजनक संबंध चाहते हैं।

-सभी अंतरराष्ट्रीय नियमों और क़ानूनों को मानेंगे जो इस्लामिक नियमों और देश के मूल्यों के ख़िलाफ़ न हों।

-इस्लामिक नियमों के मुताबिक़- अल्पसंख्यकों और कमज़ोरों के हकों की रक्षा करेंगे।

-सभी नागरिकों को समान दर्जा, इस्लामिक अमीरात सबके इस्लामिक हकों की सुरक्षा करेंगे।

-शरिया ढ़ांचे के तहत धार्मिक और आधुनिक विज्ञान की शिक्षा मुहैय्या करायी जाएगी।

-आर्थिक तरक्की के लिए सभी संसाधनों का इस्तेमाल।

-घरेलू राजस्व का बेहतर इस्तेमाल, विदेशी निवेश के मौक़े, बेरोज़गारी दूर करेंगे और देश को जल्द से जल्द अपने पैरों पर खड़ा करेंगे।

-देश के सभी नागरिक को मूलभूत सुविधाएं जल्द से जल्द उपलब्ध कराने की दिशा में काम, ग़रीबी उन्मूलन, राष्ट्रीय संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे।

– मीडिया की स्वतंत्रता और क्वालिटी में सुधार, इस्लाम और राष्ट्रीय हित में भूमिका सुनिश्चित करेंगे।

– हम किसी से साथ दुश्मनी नहीं चाहते, अफ़ग़ानिस्तान सभी के लिए एक घर। किसी को भविष्य के लिए चिंतित होने की ज़रूरत नहीं, आम जनों से इस्लामिक अमीरात को समर्थन जारी रखने की अपेक्षा, इस्लामिक सिस्टम के तहत देश के पुनर्निमाण में सबकी भागीदारी।

– सभी प्रतिभाशाली पेशेवर लोगों, विद्वान, प्रोफ़ेसर, डॉक्टर, वैज्ञानिक, इंजीनियर और शिक्षित वर्ग, व्यापारी और निवेशकों को पूरी तवज्जो का भरोसा देते हैं।

– लोग देश छोड़ने की कोशिश न करें, इस्लामिक अमीरात को किसी से कोई दिक्कत नहीं, देश निर्माण में सबकी भागीदारी का भरोसा

– तमाम सैन्य हथियार और गाड़ी, सरकारी इमारत राष्ट्रीय संपत्ति। किसी को इनको नुकसान पहुंचाने नहीं दिया जाएगा। लीडर ऑफ़ इस्लामिक अमीरात ऑफ़ अफगानिस्तान अमीर उल मुमीनिन शेख़ उल हदीथ हिब्तुल्लाह अखुंदज़ादा।

Translate »