Wednesday, August 3, 2022

MOTHER LAND POST

MOTHERLANDPOST

‘जान बूझकर बनाया गया है यह हिजाब का विवाद’ – राजद नेता मनोज झा

by Disha
0 comment

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सांसद मनोज कुमार झा ने रविवार को कर्नाटक में जारी हिजाब विवाद पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की खिंचाई करते हुए कहा कि यह विवाद जानबूझकर बनाया गया है।

 

 

झा ने कहा कि देश को अपनी प्राथमिकताओं के बारे में सोचने की ज़रूरत है।
उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “क्या हिजाब वाकई इस देश की प्राथमिकता है? बेरोज़गारों के ख़िलाफ़ लाठियों का इस्तेमाल किया जा रहा है, बेरोज़गारी पांच दशकों में अपने चरम पर है और हंगर इंडेक्स में हम 116 देशों में से 101वें स्थान पर हैं। हम इस देश को कहाँ ले जा रहे हैं? यह विवाद जानबूझकर बनाया गया है। हमें अपनी प्राथमिकताओं के बारे में सोचने की ज़रूरत है। हम एक राष्ट्र के रूप में कई पहलुओं में असफल रहे हैं। इन चीज़ों के बारे में सभी को सामूहिक रूप से चिंतित होना चाहिए।”

उन्होंने आगे जोड़ा, “हमें संविधान का अक्षरश: पालन करना चाहिए और अनुच्छेद 25 (विवेक की स्वतंत्रता और स्वतंत्र पेशे, अभ्यास और धर्म का प्रचार) का सम्मान किया जाना चाहिए। मैंने विश्वविद्यालयों में पढ़ाया है और छात्राएं हिजाब पहनती थीं। तो मुझे क्या करना चाहिए? उन्हें उठाकर क्लास के बाहर फेंक दूँ? मैं नहीं कर सकता।”

केरल के राज्यपाल आरिफ़ मोहम्मद खान की इस टिप्पणी पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कि हिजाब इस्लाम के लिए ज़रूरी नहीं है, उन्होंने कहा कि खान की कुछ मजबूरियां हैं और उन्हें अपनी पार्टी के लिए आगे आने की ज़रूरत है।

दरअसल मौजूदा हिजाब विवाद के बीच, केरल के राज्यपाल आरिफ़ मोहम्मद खान ने शनिवार को कहा कि हिजाब इस्लाम का एक अनिवार्य हिस्सा नहीं है, जैसे कि सिख धर्म के लिए पगड़ी है और यह विवाद मुस्लिमों को रोकने के लिए एक “साज़िश” का हिस्सा है।

लड़कियों को आगे बढ़ने से राज्यपाल ने छात्रों से अपनी कक्षाओं में लौटने और अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ाने का भी आग्रह किया। फ़ोन पर बात करते हुए खान ने कहा, “हिजाब इस्लाम का हिस्सा नहीं है। हिजाब का क़ुरान में सात बार उल्लेख किया गया है, लेकिन यह महिलाओं के ड्रेस कोड के संबंध में नहीं है। यह मुस्लिम लड़कियों को आगे बढ़ने से रोकने की साज़िश है। हिजाब विवाद मुस्लिम लड़कियों की शिक्षा को रोकने की साज़िश है। मुस्लिम लड़कियां अब पढ़ रही हैं और जो चाहती हैं उसे हासिल कर रही हैं। मैं सुझाव दूंगा कि छात्र अपनी कक्षाओं में लौट आएं और अध्ययन करें।”

About Post Author