September 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘जो लोग लोकतांत्र और धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करते हैं वो एक साथ आएँ’ – शरद पवार

शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा बुलाई गई विपक्षी नेताओं की आभासी बैठक में भाग लेने के बाद, NCP सुप्रीमो शरद पवार ने कहा कि जो लोग लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करते हैं, उन्हें एक साथ आना चाहिए और “समयबद्ध कार्रवाई कार्यक्रम”(Time-bound action programme) तैयार करना चाहिए।

 

 

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने ट्विटर पर कहा कि उन्होंने देश की मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए समान विचारधारा वाले दलों की बैठक आयोजित करने की पहल की सराहना की। “भारत में वर्तमान परिदृश्य बहुत निराशाजनक प्रतीत होता है। किसान कई महीनों से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, यह एक भारत जैसे लोकतांत्रिक देश के लिए दर्दनाक तस्वीर है।”

उन्होंने ट्वीट किया कि “देश मुद्रास्फीति, आर्थिक मंदी, कोविड, बेरोज़गारी, सीमा विवाद, अल्पसंख्यक समुदायों के मुद्दे आदि जैसे कई मुद्दों का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार इन मुद्दों का समाधान करने में विफल रही है।

पवार ने कहा, “जो लोग लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करते हैं, जो हमारे देश के लोकतांत्रिक सिद्धांतों और लोकाचार को बचाने के लिए मिलकर काम करना पसंद करते हैं, उन्हें एक साथ आना चाहिए।”
“एक Time-bound action programme को सामूहिक रूप से शुरू करने की आवश्यकता है, और मैं दृढ़ता से सुझाव देता हूं कि इन सभी मुद्दों से एक साथ निपटने के बजाय, हमें सामूहिक रूप से प्रत्येक मुद्दे को प्राथमिकता देनी चाहिए और अपने देश को एक अच्छा वर्तमान और भविष्य देने के लिए उन्हें एक-एक करके हल करना चाहिए।”
बता दें कि इस बैठक में राकांपा और शिवसेना समेत कुल 19 दलों ने हिस्सा लिया।

Translate »