December 2, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘टीएमसी के आधिकारिक कार्यकर्ता तीव्र हिंसा का सामना कर रहे हैं’ – सांसद सुष्मिता देव

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सांसद सुष्मिता देव ने सोमवार को आरोप लगाया कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को त्रिपुरा में भारी हिंसा का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को राज्य में वापस भेजने का आग्रह भी किया।

 

Sushmita Dev/twitter

 

टीएमसी नेता ने ट्वीट कर कहा, “भारत के प्रधानमंत्री कम से कम आप त्रिपुरा के डीजीपी को उनके राज्य में वापस भेज सकते हैं जहां पूरी तरह से अराजकता फैली हुई है। डीजीपी सम्मेलन इंतज़ार कर सकते हैं। हम अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (एआईटीसी) के आधिकारिक कार्यकर्ता तीव्र हिंसा का सामना कर रहे हैं।”

तृणमूल नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि त्रिपुरा में पार्टी नेताओं पर कथित हमलों को लेकर वे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने के लिए आज कुल 16 सांसदों के साथ नई दिल्ली पहुंचे हैं।

बता दें कि अगरतला नगर निगम (एएमसी) और 12 अन्य नगर निकायों के लिए 25 नवंबर को होने वाले चुनाव के मद्देनज़र हिंसक घटनाओं के बाद त्रिपुरा में तनाव बढ़ गया है।

टीएमसी ने इससे पहले आरोप लगाया था कि रविवार को अगरतला के भगवान ठाकुर चौमुनि इलाके में तृणमूल कांग्रेस की त्रिपुरा इकाई की संचालन समिति के प्रमुख सुबल भौमिक के आवास पर हमले के बाद कई लोग घायल हो गए।

त्रिपुरा पुलिस द्वारा तृणमूल युवा कांग्रेस प्रमुख सायोनी घोष की गिरफ्तारी के ख़िलाफ़ सांसद सोमवार सुबह से राजधानी दिल्ली में धरने पर बैठेंगे।

ग़ौरतलब है कि घोष को रविवार को एक जनसभा में कथित रूप से हंगामा करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जहां त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब भी मौजूद थे।

Translate »