October 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

उमा भारती का नौकरशाही पर विवादित बयान, कहा ‘उनकी “औकात” क्या है, वे हमारी चप्पल उठाते हैं’

मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती ने नौकरशाही पर एक विवादास्पद बयान दिया है और ब्यूरोक्रेसी को चप्पल उठाने वाला बताया।

 

Twitter

 

उमा भारती ने कहा, “ब्यूरोक्रेसी कुछ नहीं होती, चप्पल उठाने वाली होती है। चप्पल उठाती है हमारी। हम लोग ही राज़ी हो जाते हैं उसके लिए।”

उन्होंने आगे कहा कि, “आपको क्या लगता है, ब्यूरोक्रेसी नेता को घुमाती है? नहीं-नहीं, अकेले में बात हो जाती है पहले, फिर ब्यूरोक्रेसी फ़ाइल बनाकर लाती है। हमसे पूछिए 11 साल केंद्र में मंत्री रहे हैं, मुख्यमंत्री रहे हैं। पहले हमसे बात होती है, डिस्कशन होता है, फिर फ़ाइल प्रोसेस होती है।”

भारती ने आगे जोड़ा, “यह सब बकवास है कि नौकरशाही नेताओं को नियंत्रित करती है। वे नहीं कर सकते… उनकी औकात क्या है? हम उन्हें वेतन दे रहे हैं, हम उन्हें पोस्टिंग दे रहे हैं, हम उन्हें पदोन्नति और पदावनति दे रहे हैं – वे क्या कर सकते हैं? सच्चाई यह है कि हम उनका इस्तेमाल अपनी राजनीति के लिए करते हैं।”

बता दें कि शनिवार को ओबीसी महासभा का प्रतिनिधिमंडल पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती से मिलने भोपाल स्थित उनके बंगले पर पहुंचा था। प्रतिनिधिमंडल ने कथित तौर पर जाति आधारित जनगणना और निजी नौकरियों में कोटे की मांग उठाई, और कहा कि अगर मध्य प्रदेश भाजपा सरकार ने जल्दी फ़ैसला नहीं किया तो वे विरोध प्रदर्शन करेंगे। इसे लेकर उन्होंने उमा भारती को 5 सूत्रीय मांगों का एक ज्ञापन सौंपा था।

विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने इन टिप्पणियों को शर्मनाक बताया और स्पष्टीकरण की मांग की। कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने मांग की, “क्या मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्पष्ट करेंगे कि क्या नौकरशाह वास्तव में राजनेताओं की चप्पलें उठाते हैं।”

Translate »