September 24, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

‘हमारे पास छुपाने के लिए कुछ नहीं है’, पेगासस मामले पर सुप्रीम कोर्ट से बोली केंद्र सरकार

सुप्रीम कोर्ट पेगासस स्पाइवेयर के ज़रिए जासूसी के मामले की सुनवाई कर रहा है। इस सुनवाई में आज केंद्र ने कहा कि उनके पास छुपाने के लिए कुछ नहीं है।

 

Credit- Bar and Bench

 

इस बाबत सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि केंद्र सरकार को उनपर लगे जासूसी के आरोपों का जवाब देना चाहिए जिसमें कहा गया है कि उन्होंने इसराइली स्पाइवेयर पेगासस का इस्तेमाल कर पत्रकारों, नेताओं और अन्य की जासूसी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह केंद्र सरकार का जवाब आने के बाद ही जाँच के लिए समिति का गठन करने का फ़ैसला करेगा।

इस मामले में जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि ‘हम यह नहीं चाहते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया जाए, लेकिन लोगों का दावा है कि उनके फोन पर हमला किया गया है। उनके दावों के अनुसार एक सक्षम प्राधिकारी ही इस पर प्रतिक्रिया दे सकता है।’

बता दें कि केंद्र की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता कोर्ट में पेश हुए। उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए पेगासस मामले में तथ्यों को सार्वजनिक करने के ख़िलाफ़ तर्क दिए।

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में कहा, ‘सभी याचिकाओं में सुप्रीम कोर्ट की जांच की बात पूछी जाती है। कल उन्होंने पूछा था कि वे चाहते हैं कि सरकार जवाब दे कि क्या पेगासस का इस्तेमाल किया गया था। यह सॉफ्टवेयर सभी देशों ने ख़रीदा है, लेकिन कौन सा सॉफ्टवेयर इस्तेमाल किया गया था या नहीं, यह राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों से किसी भी देश के द्वारा नहीं बताया जाता है।’

मेहता ने कोर्ट से कहा, ‘हमारे पास में अदालत से छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। हम अदालत द्वारा गठित समिति के सामने सब कुछ रखेंगे, लेकिन इसे हलफनामे के माध्यम से सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है।’

Translate »