October 26, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

नए चांसलर के आने के बाद अब काबुल यूनिवर्सिटी में क्या बदलेगा?

तालिबान के अफ़ग़ानिस्तान पर क़ब्ज़े के एक महीने बाद अब यूनिवर्सिटी और स्कूल खोले जा रहे हैं। इसी कड़ी में देश की सबसे पुरानी और बेहतरीन यूनिवर्सिटी में VC को बर्ख़ास्त करने पर विवाद छिड़ गया है।

 

Twitter

 

अब इस विवाद के बीच नवनियुक्त VC मोहम्मद अशरफ़ ग़ैरत ने बताया है कि काबुल यूनिवर्सिटी में अब किस तरह के बदलाव किए जाएँगे। नए चांसलर ने कहा कि आने वाले दिनों में विश्वविद्यालय में और ज़्यादा इस्लाम समर्थक कर्मचारियों को नियुक्त किया जाएगा।

अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए मुहम्मद अशरफ़ ग़ैरत ने कहा कि इससे तालिबान की पाठ्यक्रम को इस्लामी बनाने को योजनाओं को और मदद मिलेगी।

बता दें कि मोहम्मद अशरफ़ ग़ैरत को इसी हफ़्ते काबुल यूनिवर्सिटी का वाईस चांसलर नियुक्त किया गया है। उनकी नियुक्ति को लेकर अन्य शिक्षाविदों ने तीखी आलोचना की है और इस नियुक्ति को अफ़ग़ानिस्तान के प्रमुख शैक्षणिक संस्थान का अपमान बताया था।

ग़ौरतलब है कि मोहम्मद ग़ैरत के पास जर्नलिज़्म की डिग्री है और उन्होंने केवल BA किया है। हालांकि अपनी नियुक्ति पर उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि वे इस भूमिका पूरी तरह योग्य हैं।

Translate »