हाथरस कांड को लेकर रोजाना नए-नए बवाल हो रहे हैं। पुलिस ने पहले ही दावा कर दिया है कि कुछ लोग हाथरस कांड को लेकर बवाल करना चाहते हैं। हाथरस कांड को लेकर 100 करोड़ रुपए की फंडिंग हुई है। पुलिस ने पीड़ित परिजनों पर पूरी नजर रखने के लिए  कैमरे लगाए हैं जिससे उनके घर पर आने-जाने वाले लोगों पर पुलिस और प्रशासन की सख्त नजर रहे।

हाथरस गैंग रेप कांड : आखिर कौन है राजकुमारी! जिसको बताया जा रहा नक्सलवादी, परिजनों ने बताया सच
हाथरस गैंग रेप कांड : आखिर कौन है राजकुमारी! जिसको बताया जा रहा नक्सलवादी, परिजनों ने बताया सच

शनिवार को इसमें एक और साजिश का मामला सामने आया है। पुलिस का कहना है कि एक महिला काफी समय से परिवार की भाभी बनकर घर में रह रही है। लेकिन परिवार का उस महिला से कोई भी तालुकात नहीं है। यह महिला षडयंत्र रचने का काम कर रही है।

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि यह महिला नक्सलवादी है। उत्तर प्रदेश में दंगे और हिंसा बढ़ाने के लिए पीड़ित परिवार की भाभी बनकर उनके घर मे रह रही है। इस मामले में महिला और पीड़िता के परिजनों ने अपना बयान दिया है।

महिला का कहना है कि उनको वहां से भगाने के लिए पुलिस और सरकार के लोग साजिश रच रहे हैं। वह मूल रूप से मध्यप्रदेश के जबलपुर की रहने वाली है। वह परिवार के साथ तब तक खड़ी है, जब तक उनको न्याय नहीं मिल जाएगा। वह एक प्रोफेसर है। महिला ने बताया कि वह परिवार की कोई रिश्तेदार नहीं है। लेकिन परिवार वाले उसको अपने आप ही भाभी बोल रहे हैं। मेरा और परिजनों का कोई खून का रिश्ता नहीं है। हमारा दिल का रिश्ता है।

इस पर परिजनों का कहना है कि महिला और उनके खिलाफ पुलिस और प्रशासन साजिश रच रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि वह नक्सलवादी है। लोग हमारे खिलाफ षडयंत्र रचने का काम कर रहे हैं।