April 11, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

अप्रैल फूल क्यों है आज भी लोगों के लिए ख़ास!

अप्रैल फूल दिवस 1 अप्रैल को दुनिया भर में बड़े उत्साह के साथ मनाए जाने वाला दिन है, इसकी शुरूआत कब और कहां हुई अभी तक संशय बरकरार है हालांकि इसके साथ कई पहलू जुड़े हुए हैं। हर समाज और संस्कृति का अलग दृष्टिकोण होता है कि कैसे एक दूसरे से मज़ाक करने या प्रैंक खेलने के लिए खास दिन को चुनें।

विद्वानों की मानें तो अप्रैल फूल की तारीख़ 1582 है जब फ्रांस ने कॉउन्सिल ट्रेंट के आदेश पर जूलियन कैलेंडर को छोड़ ग्रेगोरियन कैलेंडर को अपनाया था। रिपोर्ट के मुताबिक फ्रांस इस कैलेंडर को अपनाने वाला पहला देश था जबकि अन्य देशों ने इसे अपनाने से मना कर दिया था।
जूलियन कैलेंडर या हिन्दू कैलेंडर की मुताबिक 1 अप्रैल को वसंत विषुव से नया वर्ष माना जाता है वहीं ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार 1 जनवरी से नए साल की शुरुआत होती है जबकि ये पुरानी कहानी है इसके पीछे जिसमें काफी विरोधाभास भी नज़र आता है।
जिन लोगों ने इस कैलेंडर के अनुरूप खुद को नहीं ढाल पाए थे उन लोगों का मज़ाक बनता था और प्रैंक खेला जाता था लेकिन आज भी लोग अप्रैल फूल मनाते हैं क्योंकि इसे सकारात्मक परिणाम के रूप में देखा जाता है। आज के दिन लोग अपने प्रियजनों के साथ शरारत करके खुशी का माहौल पैदा करते हैं।
             कब सोशल मीडिया का युग है और लोग किसी न किसी माध्यम से सोशल मीडिया के ज़रिए जुड़े हैं तो अप्रैल फूल एक त्योहार बन गया है। यह दिन आज भी लोगों के बीच लोकप्रिय है और इसके आने का लोग बेसब्री से इंतज़ार करते हैं और हर साल पूरी दुनिया मे मनाया जाता है।
Translate »