November 27, 2021

MotherlandPost

Truth Always Wins!

“आप अकेले नहीं हैं, यूरोप आपके साथ खड़ा है” ताइवान में चीन के बढ़ते सैन्य दबाव के बीच यूएन ने दिया ताइपे को आश्वासन

ताइपे बीजिंग की ओर से बढ़ते दबाव के बीच ताइवान के लिए यूरोपीय संसद के पहले आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को कहा कि वो अकेला नहीं है और इस ओर भी जोर दिया कि यूरोपीय संघ-ताइवान संबंध मज़बूत हों। इस बाबत कई ज़रूरी क़दम उठाने की बात भी की गई।

 

Reuters

 

ताइवान, जिसके वेटिकन सिटी को छोड़कर किसी भी यूरोपीय देश के साथ औपचारिक राजनयिक संबंध नहीं हैं, इस समय यूरोपीय संघ के सदस्यों के साथ संबंधों को गहरा करने की इच्छा जता रहा है।

ये यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब चीन ने ताइवान पर सैन्य दबाव बढ़ा दिया है। दरअसल चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है और उसपर क़ब्ज़ा करना चाहता है, हालांकि ताइवान अपने एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक देश होने की बात पर लगातार ज़ोर देता आया है।

यूरोपीय संसद के एक फ्रांसीसी सदस्य राफेल ग्लक्समैन ने फ़ेसबुक पर लाइव प्रसारण में ताइवान के राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन को बताया, “हम यहां एक बहुत ही सरल, बहुत स्पष्ट संदेश के साथ आए हैं: आप अकेले नहीं हैं। यूरोप आपके साथ खड़ा है।”

 

Reuters

 

प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे ग्लक्समैन ने कहा, “हमारी यात्रा को एक महत्वपूर्ण पहला क़दम माना जाना चाहिए।” “लेकिन आगे हमें एक बहुत मज़बूत यूरोपीय संघ-ताइवान साझेदारी बनाने के लिए उच्च-स्तरीय बैठकों और उच्च-स्तरीय ठोस क़दमों के एक बहुत ही ठोस एजेंडे की ज़रूरत है।”

 

बैठक में उठे कौन से मुद्दे?

लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं में विदेशी हस्तक्षेप पर यूरोपीय संसद की एक समिति द्वारा आयोजित इस तीन दिवसीय यात्रा में ताइवान के अधिकारियों के साथ दुष्प्रचार और साइबर हमलों जैसे ख़तरों पर बातचीत भी शामिल है।

त्साई ने ताइवान में प्रभाव हासिल करने के लिए जारी चीनी प्रयासों के बढ़ने की चेतावनी दी है और सुरक्षा एजेंसियों से घुसपैठ के प्रयासों का मुक़ाबला करने के लिए कहा है।

त्साई ने राष्ट्रपति कार्यालय में प्रतिनिधिमंडल से कहा, “हम दुष्प्रचार के ख़िलाफ़ एक लोकतांत्रिक गठबंधन स्थापित करने की उम्मीद करते हैं।”

उन्होंने कहा, “हम मानते हैं कि ताइवान और यूरोपीय संघ निश्चित रूप से सभी क्षेत्रों में हमारी साझेदारी को मज़बूत करना जारी रखेंगे।”

Translate »